Translate

बुधवार, 24 मार्च 2010

सुप्रीम कोर्ट ने की गलत व्याख्या-राधा कृष्ण तो नहीं थे लिव इन रिलेशनशिप में

सुप्रीम कोर्ट ने लिव इन रिलेशनशिप को वैध ठहराकर युवाओं को खुश तो कर दिया लेकिन जिस तरह से यह पैᆬसला आया इसने एक नये विवाद को जन्म दे दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने इस पैᆬसले के पीछे राधा व कृष्ण के सम्बन्धों का जिव्रᆬ किया है। अखबारों में छपी रिपोर्ट पर गौर किया जाय तो सुप्रीम कोर्ट ने अपनी टिप्पणी में कहा कि पौराणिक कथाओं के मुताबिक कृष्ण और राधा भी साथ-साथ रहते थे। मुझे लगता है कि विद्वान न्यायाधीशों की पीठ ने इस बिन्दु पर पौराणिक कथाओं का सही तरह से अवलोकन नहीं किया। रामनवमी से ठीक एक दिन पूर्व 23 मार्च को सुप्रीम कोर्ट का यह महत्वपूर्ण पैᆬसला आया। 24 मार्च को यह पैᆬसला देश के सभी महत्वपूर्ण समाचार पत्रों में छपा। टीवी चैनलों ने भी इस खबर को अपने प्राइम टाइम में चलाया। पूरे दिन पत्रकारों व बुद्विजीवियों के बीच इस पैᆬसले पर चर्चा होती रही। चर्चा की दो धाराएं नजर आयीं लेकिन ज्यादा लोगों की नाराजगी दिखने का कारण था इस पैᆬसले के साथ कृष्ण और राधा के सम्बन्धों को आधार बनाना। जहां तक मेरी जानकारी है कृष्ण और राधा साथ-साथ नहीं रहते थे। कृष्ण से राधा उम्र में 15 साल बडी थीं। कृष्ण की हजारों गोपियों में से राधा एक थी। राधा उनकी खास सखा थां और कहीं भी यह जिव्रᆬ नहीं है कि राधा व कृष्ण साथ-साथ रहते थे। हमारे ब्यूरो प्रमुख विजय शंकर पंकज ने हमारी चर्चा को आगे बढाते हुए राधा व कृष्ण के सम्बन्धों पर विस्तार से जानकारी दी। बकौल पंकज जी राधा व कृष्ण एक ही गांव के रहने वाले थे। राधा शादी शुदा थी लेकिन वह कृष्ण की गोपियों में सबसे खास थी। बावजूद इसके वह जब कभी भी कृष्ण से मिली उनके साथ गांव की अन्य गोपियां भी हुआ करती थी। सबके साथ ही वह रास रचाया करती थी। यह सारे तथ्य पौराणिक कथाओं में वर्णित हैं। लगता है कि सुप्रीम कोर्ट ने पौराणिक कथाओं पर ठीक तरह से गौर नहीं किया और उसे आज के लिव इन रिलेशनशिप के रिश्तों से जोड दिया। लिव इन रिलेशनशिप का मतलब कोई भी बालिग युवक व युवती शादी से पहले ही आपस में न ही शारीरिक सम्बन्ध बना सकते हैं बल्कि साथ रह भी सकते हैं। कानून व पुलिस इन सम्बन्धों में किसी भी तरह का हस्तक्षेप नहीं कर सकती है। देश की अदालत जब समलैंगिकता को गलत नहीं मानती तो युवक व युवती के लिव इन रिलेशनशिप को किस तरह से गलत ठहराया जा सकता है। मेरा ऐतराज इस पर है भी नहीं लेकिन मेरा निवेदन है कि लिव इन रिलेशनशिप की सच्चाई को भी अदालतों को देखना चाहिए। किस तरह से युवक व युवतियां लिव इन रिलेशनशिप के नाम पर ठगे जा रहे हैं यह उन हजारों युवक व युवतियों से पूछिए जो इसके शिकार हुए। ऐसा नहीं है कि युवक ही युवती को इस बहाने एक्सप्लायट करके धोखा दे रहे हैं। युवतियां भी अपने साथी को खूब धोखे दे रही हैं। इसे नजदीक से जानने के लिए यूटीवी बिन्दास का शो इमोशनल अत्याचार देखना होगा। आपका पार्टनर आपके प्रति कितना ईमानदार है इस शो को देखने के बाद पता चलता है। लिव इन रिलेशनशिप के कई सम्बन्ध इस टीवी शो के दौरान ही असलियत खुलने के बाद टूट जाते हैं। कोई जरुरी नहीं कि आप अपने जिस दोस्त के साथ कमिटेड रिलेशनशिप में रह रहे हों वह भी उतना ही कमिटेड हो। मुझे लगता है कि समाज की इन सच्चाईयों की रोशनी में पैᆬसले आने चाहिए। क्योंकि देश में कानून से ही लोग थोडा सा डरते हैं।

4 टिप्‍पणियां:

  1. i agree. radha and krishna were not at all having a live in relationship.but what can u do. we are ordinary people . we can't question the intellect of the judges. they are supreme.

    उत्तर देंहटाएं
  2. देवकी जी, आपको बहुत बहुत धन्यवाद कि आपने लाखो-करोडो लोगो के आराध्य कृष्ण और राधा के बारे में की गई व्याख्या पर सही तथ्यों से अवगत कराया.दरअसल काल्पनिक आधार पर चित्रकार रवि वर्मा द्वारा कृष्ण और राधा के बारे में जो चित्र बनाए गए हैं उनमे कृष्ण को युवा दिखाया गया है.जबकि रास लीला करना तथा गोपियों के नहाते समय कपडे चुराना आदि यह सब उनकी बाल सुलभ क्रियाएँ थी.जो सभी बालक करतें हैं

    उत्तर देंहटाएं
  3. Deoki Bhai, Congratulations for a very timely write-up which puts things in the right perspective. Unfortunately, journalists have become so involved in daily routine work and 'khabar' that we have no time for intellectual discussions and debates. Also, it is heartening to note that my dear Chacha (Pankah ji) has also contributed to this write-up. He has always been a keen observer on such issues, including live-in relations and 'raas leela'! Best of luck. Keep writing. Regards.

    उत्तर देंहटाएं
  4. deoki bhai aapne bahut acche mudde ko uthaya haii. suprim court ke is nirday par bjp ko to kam se kam jarur bolna chahiya tgha. cour ko aapni es tippadi ko wapas lekar deswasiyon se mafi magni chaiya.

    उत्तर देंहटाएं